0

best Homey tips to stop anger

stop-anger

                     

क्या आपको गुस्सा अधिक आता है ?

अधिक क्रोध और घ्रणा मनुष्य के असली दुश्मन  है | क्रोध बहुत ही हानिकारक एवं घातक है  यदि इसका उपचार सही समय पर ना किया जाए तो इसके परिणाम भयंकर हो सकते हैं | इस क्रोध के कारण ना जाने कितने ही परिवार बर्बाद हो जाते हैं | अतः हमें क्रोध पर काबू पाना चाहिए |

 Angry women

जब व्यक्ति अधिक क्रोधित होता है तो वह काँपता रहता है | तो उसके खून के स्वेत  कण  तेजी से नाश होते हैं |  जब आप किसी बात पर अथवा किसी व्यक्ति से ज्यादा जायज और नाजायज नाराज होकर आधा घंटा अगर क्रोधी रहते हैं तो लगभग 35 से 40 मिलीग्राम खून ज़हर में बदल जाता है | और जब खून दूषित हो जाता है | तो परिणाम स्वरूप आप बीमार होने लगते हैं और कई बीमारियों की शुरुआत हो जाती है |
उसमें मुख्य हैं :- पित्ताशय की पथरी व गुर्दे की पथरी इसका इलाज ऑपरेशन ही है क्रोध से प्राणशक्ति बहुत खर्च होती है और इन से शरीर में क्षोभ होने पर प्राणादि    वायु अपने समभाव  को छोड़कर उल्टे सीधे मार्ग में गति करने लगते हैं |  इससे शरीर का रस सूख जाता है | और व्यक्ति हाई ब्लड प्रेशर, कमजोर याददाश्त और हृदय के रोगी हो जाते हैं |
1. क्रोध रोकने के लिए सबसे अच्छा उपाय है |  भोजन हमेशा शांत होकर करें एवं एक-एक कौर को 32 बार चबाएं |  पूरे भोजन को धीरे धीरे 20 से 25 मिनट तक खाएं |  जब क्रोध आए तो हाथ की हथेली दवा ले तो नुकसान नहीं होगा |  95% क्रोध नियंत्रित हो जाएगा 5% क्रोध ईश्वर ने हमें अनुशासन, दूसरों की रक्षा और अपनी आत्मरक्षा के लिए दिया है |  जो आप को कोई नुकसान नहीं पहुचता |
2. अगर आपको भूख नहीं लगती , नींद अधिक आती है , शरीर टूटता है , और शरीर भारी अर्थात मोटा है | तो 10 ग्राम शहद  , 10 बूंद अदरक का रस , आधा नींबू का रस , 5 से 7 तुलसी के पत्ते , और संतकृपा चूर्ण इन सबको एक गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर प्रतिदिन प्रातः पियें |
3. फास्ट फूड और जंक फूड के सेवन से क्रोध अधिक आता है अतः इनका सेवन कम से कम करे |
4. क्रोधी स्वाभाव वाले को सप्ताह में एक दिन उपवास करना चाहियें |
5. जब क्रोध आप पर हावी हो तब शांत रहे अधिक ना बोले |
6. अधिक क्रोध आता है तब एक महीने नमक का सेवन ना करे |
Spread the love

Home Made Remedies

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *